in

आज का युवक पढ़ा लिखा और बुध्धीजीवी भी!

जयादातर लोग अमन पसंद है और हालातों को समझते हैं
जयादातर लोग अमन पसंद है और हालातों को समझते हैं

पंजाब की शांति को भाँग करने के लिए विदेशी ताकतें जोरों पर हैं. बीज जे पी के राष्ट्रीय सचिव तरुन चुग्ग ने खुलासा किया कि, संरक्षण एजंसिया और राज्य सरकार हर पल पर दृष्टि रख रही है, जिस से कि पंजाब में किसी भी विदेशी ताक़त से अमन-शांति को ठेस न लगे। उन्होंने कहा कि, खालिसतानी कारकुन दुनिया के हर कोने में सक्रिय है, जो अपनी गुम्म हुई कुर्सी को पंजाब में दोबारा प्राप्त करने के लिए बैचैन हैं, किन्तु यह खुफिया एजेंसिओं की मदद के बिना अपने मकसद में क़ामयाब नही हो पाते, इस के कारण विदेशी ताकतों की कठपुतली बने हुए हैं. संवाददाता गुर्दीप सिंह के अनुसार विदेश में बसे कट्टड़पंथी सोशल मीडिया का नजायज और गलत इस्तेमाल कर रहे हैं। उन्होंने स्पष्ट किया कि, पंजाब बहुत बुरे समय से निकला है और अब पंजाब में शांति हुई है तो कुछ सुआरथी इस को बर्दाश्त नही कर रहे। भारत की सुरक्षा एजेंसी लगातार इन पर दृष्टि रख रही हैं, जिस से किसी भी तरह की घटना न हो पाये और पंजाब की शांति को ढाह न लगे। बॉर्डर की सुरक्षा मजबूत की गयी है, जिस से भारत की सरहद को मजबूत बनाने के इलावा सरहद से लगते हुए इलाकों में रहने वाली अवाम सुरक्षित और प्रोन्नत रह पाये। उन्होंने आगे कहा कि, सीमा वाले इलाकों में रहने वाले लोगों ने शत्रु को बहुत भुगता है, अब यह किसी भी अपरिचत व्यक्ति को पकड़ने में संरक्षण विभाग की खुद मदद करते हैं, जिस से किसी भी घटना को रोका जा सके. चुग्ग ने खुलासा करते हुए कहा कि, सिर्फ कुछ लोगों को छोड़ जयादातर लोग अमन पसंद है और हालातों को समझते हैं। भूतपूर्व श्रोमणी कमेटी मैंबर सविंदर सिंह ने इस मौक़े बोलते हुए कहा कि, विदेशों में सक्रिय गरम खयाली दल युवकों को गुंमराह करने की कोशिश में है, किन्तु हजारों डॉलर खर्च करने के उपरांत भी वह अपने मकसद में क़ामयाब नहीं हो रहे, क्योंकि आज के युवक पढ़े लिखे होने के साथ बुध्धीजीवी भी हैं. उन्होंने कहा कि, इस की मिसाल वह अपनी कैनेडा अमेरिका फेरी के दौरान देख चुके हैं, जहाँ खालिसतान के नाम पर चंदा इकट्ठा किया जा रहा है जो कि गुरु मरियादा के ख़िलाफ़ है, क्योंकि ऐसी किसी माँग की पंजाब में रह रहे सिख भाईचारे में कोई जगह नहीं.

पाकिस्तान: ऐतिहासिक हनुमान मंदिर की मरम्मत में मिलीं बहुमूल्य कलाकृतियां

मिशन चंद्रयान बहुत जटिल था, 95 फीसदी रहा सफल – इसरो