in

पौधा वितरण करके मनाया जड़ी-बूटी दिवस

इस अवसर पर लगभग 1500 औषधि पौधों का वितरण किया गया
इस अवसर पर लगभग 1500 औषधि पौधों का वितरण किया गया

पतंजलि परिवार बठिंडा के द्वारा आचार्य बालकृष्ण के जन्मदिवस को जड़ी-बूटी दिवस के रूप में मनाया। इस अवसर पर एक भव्य कार्यक्रम का आयोजन महानगर के रोज गार्डन के मुख्य द्वार पर हुआ। जिसमें पतंजलि योगपीठ के पांच संगठन भारत स्वाभिमान ट्रस्ट पतंजलि योग समिति महिला पतंजलि योग समिति, पतंजलि युवा भारत तथा किसान सेवा समिति के सदस्यों के अलावा अन्य योग साधकों ने भाग लिया। दैनिक योगाभ्यास के बाद सभी सदस्य रोज गार्डन के मुख्य द्वार पर एकत्रित हुए। वैदिक मंत्रोचार तथा भजनों के साथ इस कार्यक्रम का आगाज हुआ। तत्पश्चात विभिन्न प्रकार के पौधों का वितरण किया गया तथा साथ ही इन औषधीय पौधों के गुणों का भी वर्णन किया गया। वितरित किए गए पौधों में मुख्यतः तुलसी, गिलोय, एलोवेरा, आंवला, पत्थरचट्टा, सदाबहार, कड़ी पत्ता, बहेड़ा, नीम  आदि रहे। बहन वीणा गर्ग की अगुवाई में महिला पतंजलि योग समिति की बहनों ने पेड़ पौधों के गुणों पर मंगलाचार किया। वरिष्ठ कार्यकर्ता सोहन लाल गर्ग तथा भारत स्वाभिमान ट्रस्ट के जिला प्रभारी विजेंद्र शर्मा ने पौधों के गुणों के बारे में विस्तृत जानकारी दी लोगों ने पतंजलि परिवार द्वारा की गए इस प्रयास की भूरि भूरि प्रशंसा की। इस अवसर पर लगभग 1500 औषधि पौधों का वितरण किया गया। कार्यक्रम को सफल बनाने में जगदीश क़ौर, पवन रेखा, गुरमीत सिंह,सुरेश जैन, हरिओम, रामानंद, नवदीश गर्ग,सुनीता, रामजी दास, बलजीत कौर, उषा गर्ग तथा सरबजीत कौर का विशेष योगदान रहा।

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का 67 साल की उम्र में निधन

बोरगो हेरमादा : 5वां वार्षिक विशाल महांमाई जागरण 14 अगस्त को