in

भारत टाइगर के निवास की सबसे सुरक्षित जगह

बाघों के लिए सरकार इंफ्रास्ट्रक्टर बढ़ा रही है
बाघों के लिए सरकार इंफ्रास्ट्रक्टर बढ़ा रही है

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को 2018 में हुई बाघों की गणना के आंकड़े जारी किए। इसके मुताबिक, देश में करीब 3 हजार टाइगर हैं। मोदी ने कहा कि भारत दुनिया में बाघ के सबसे बड़े और सुरक्षित निवास स्थानों में से एक है। इससे पहले सेंसस 2014 में देश में बाघों की संख्या 2226 सामने आई थी। वाइल्ड लाइफ इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने पिछले साल देशभर के टाइगर रिजर्व, नेशनल पार्क, अभ्यारण्य और सामान्य वन मंडलों में 28 पैरामीटर पर बाघों की गणना की।

मोदी ने कहा कि 9 साल पहले सेंट पीट्सबर्ग के सम्मेलन में 2022 तक बाघों की संख्या दोगुनी करने का लक्ष्य रखा गया था। लेकिन हमने इसे बीते चार साल में ही हासिल कर लिया। देश में टाइगर और संरक्षित इलाकों की संख्या बढ़ने का असर रोजगार पर भी पड़ता है। मैंने पिछले दिनों पढ़ा था कि रणथंबौर में बाघ देखने के लिए हजारों टूरिस्ट पहुंचते हैं। बाघों के लिए सरकार इंफ्रास्ट्रक्टर बढ़ा रही है।
मोदी ने कहा, ”हमारा देश ऐसा है जहां सहअस्तित्व की परंपरा रही है। आज सावन सोमवार है, शिवजी के गले में सांप है, उनके बेटे गणेशजी का वाहन चूहा है। सांप चूहे को खाता है, लेकिन शिवजी के परिवार में सहअस्तित्व है। कोई किसी को नुकसान नहीं पहुंचाता।”
भारत आर्थिक और पर्यावरण के क्षेत्र में आगे बढ़ रहा है। हमारे देश में रेल कनेक्टिविटी बढ़ रही है, लेकिन वृक्षों का कवरेज भी बना हुआ है। बीते पांच सालों में अगली पीढ़ी के लिए इंफ्रास्ट्रक्टर पर काम हुआ है। पर्यावरण और जंगलों को बचाने के लिए योजनाएं तैयार की गई हैं।”
वाइल्ड लाइफ प्रोटेक्शन सोसायटी ऑफ इंडिया (डब्लूपीएसआई) के सेंट्रल इंडिया शाखा के डायरेक्टर नितिन देसाई ने बताया कि इससे पहले 2006, 2010, 2014 में टाइगर सेंसस जारी किया जा चुका है। तीनों ही सेंसस में बाघों की संख्या में इजाफा हुआ था। 2018 के चौथे टाइगर सेंसस में भी भारत में बाघों की संख्या में इजाफा हुआ है।

भारत 55 साल बाद पाकिस्तान में डेविस कप के मैच खेलेगा

पढ़ने का नशा लगाने शुरू किया ठेका किताब