in

विश्व कप के दौरान शुबमन गिल का बैट लगातार चलता रहा!

पंजाब को इस बात की जानकारी नहीं है कि कौन सी सोच उसे ड्रग राज्य और खालिस्तानी सोच का हिस्सा बनाने की कोशिश कर रही है और यह जानकारी दुनिया भर में प्रकाशित हो रही है। इस बात से कोई इंकार नहीं है कि दुनिया की हर बुराई पंजाब राज्य से जोड़ी जा रही है। एक बार नहीं बल्कि सैकड़ों बार, पंजाब के युवाओं ने अपनी सोच, दृढ़ संकल्प और कड़ी मेहनत से दुनिया के नक्शे पर खुद को साबित किया है। इसी के तहत देखें तो शुबमन गिल का बल्ला 19 साल से कम उम्र के ग्रुप में पूरे विश्व कप में लगातार बोलता रहा। उन्होंने विश्व कप विजेता टीम के अभियान में सबसे अधिक रन बनाए और उन्हें सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी घोषित किया गया। अब उन्हें भारत की सीनियर क्रिकेट टीम के लिए चुना गया है। जहां अखबार और खेल विशेषज्ञ उनके भविष्य पर चर्चा कर रहे हैं, वहीं फाजिल्का जिले के जमाल सिंह वाला के गांव में शुबमन के घर पर उनका बल्ला विश्व कप की तर्ज पर बोल रहा है।
पंजाब, जो 30 साल से अधिक समय से उग्रवाद या आतंकवाद से जुड़ा था, आज अपने युवाओं की सफलता की एक ज्वलंत तस्वीर बनाने में सफल रहा है, जिसका अर्थ है कि पंजाब को विश्व के सामने बुलंद राज्य के रूप में पेश करने वाले पंजाब के युवा हैं, जिनका मुकाबला करना मुश्किल ही नहीं बल्कि नामुमकिन है। दीदार सिंह कहते हैं, “मेरे शुबमन ने पूरी दुनिया में हमारा नाम बनाया। उन्होंने पूरे गाँव का नाम ऊंचा किया।” दीदार सिंह रसोई और बरामदे के सामने सीमेंट की ईंट से चौकोर फर्श की ओर इशारा करते हैं, “यह शुबमन की पिच है, छोटा शुबमन यहां खेलता था। मैंने उसे प्रशिक्षित किया। ”दादाजी ने पोते के बचपन के खेल की कई कहानियाँ बताईं। उनके खेल पार्टनर और दोस्त यादें साझा करते हैं। कुछ लोगों के पास शुभमन के बचपन की तस्वीरें हैं।
ये सभी कहानियां अपने-अपने अनुमान में बताती हैं कि शुभमन की मेहनत देखकर उसे यकीन हो गया था कि वह सचिन तेंदुलकर बन जाएगा। शुबमन की दादी, गुरमेल कौर ने भाग-दौड़ की गणना से अनभिज्ञ अपने पोते के लिए भगवान का शुक्रिया अदा किया।
इस गांव में खेल का मैदान नहीं है। परिवेश के अंदर वॉलीबॉल खेलने के लिए एक जाल है। दोनों फसलों के बीच अवकाश के समय, क्रिकेटिंग ग्रामीण टूर्नामेंट पिछले साल आयोजित किया गया था। दुनिया की सबसे अच्छी पिचों और शानदार खेल के मैदानों के दिमाग में शानदार पिच की शुबमन के पीछे मैदान में किस तरह की तस्वीर बनेगी? जगदीप सिंह बचपन से ही शुभमन के साथ खेल रहे हैं। जगदीप बताते हैं कि स्कूल में वह शुभमन के साथ प्रैक्टिस करता था। शुभमन के पिता लखविंदर सिंह गिल भी उसका अभ्यास करवाने के लिए स्कूल आते थे। सभी ने शुबमन को बोल्ड किया। स्कूली बल्लेबाज़ी के दौरान मिडवाइव से लेकर लोंगाउन तक के बीच खेला जाने वाला हर शॉट शुभमन के घर की दिशा में जाता है। लखविंदर सिंह ने बचपन से ही क्रिकेट खेलना शुरू कर दिया था।
शुबमन की चाची मनप्रीत कौर ग्रेवाल कहती हैं, “हम ने हमारे हीरो शुबमन को कोई खिलौने नहीं दिए, क्योंकि इस से क्रिकेट से उस का ध्यान विचलित हो जाता। ”
जमाल सिंह वाला में गिल लोगों की खेती है। जमाल सिंह की हरित क्रांति का आशीर्वाद बरस रहा है। गाँव में बड़े घरों का निर्माण पचास साल से अधिक पुराना नहीं लगता है। कोई बाहरी दीवारें रंगीन या नहीं हैं। शुबमन के घर वाले कहते हैं कि अगर वह इस गाँव में रहते तो उन्हें मौजूदा स्तर पर खेलने का अवसर नहीं मिलता। शुबमन ने साबित कर दिया है कि क्षमताओं और अवसरों के संयोजन से ही कुछ हासिल किया जा सकता है। शुबमन, जो कुछ समय पहले सीमित लोगों के लिए ही जाना जाता था, अचानक देश, पंजाब के लोगों के लिए प्रेरणा स्रोत के रूप में समाचार पत्रों, टीवी चैनलों और सोशल मीडिया के आकर्षण का केंद्र बन रहा है क्योंकि जब एक युवा व्यक्ति जागता है। पूरा समाज जाग रहा है। यहां तक ​​कि देश के भीतर सांप्रदायिक ताकतों की गहरी निराशा युवाओं के संघर्ष को दबा नहीं सकती है। देश का भविष्य इन जाग्रत युवाओं के हाथों में है। इसलिए आज समाज को जरूरत है ऐसे वीर युवाओं की जो इन के आगे न झुकें, ऐसे खून की जरूरत है जो नसों में ही न जम्म जाये। उम्मीद है हमारे समाज के प्रतिभाशाली युवा हमारी आशा के पौधे को जरूर फल लगने देंगें!

भारत से पाकिस्तान जाने वाले हिंदू सिख तीर्थयात्रियों में भारी उत्साह

भारी आर्थिक संकट से जूझ रहा संयुक्‍त राष्‍ट्र