in

सिख युवती के अपहरण और धर्मांतरण पर प्रदर्शन

दिल्ली सिख गुरुद्वारा समिति के प्रमुख एमएस सिरसा ने कहा कि, पाकिस्तान में पंजा साहिब गुरुद्वारा के प्रमुख ग्रंथि की बेटी का अपहरण कर लिया गया है और उसका जबरदस्ती धर्मांतरण करवा कर इस्लाम बना दिया गया. यह घृणास्पद कृत्य है. पाकिस्तान में ऐसा लगता है कि वहां औरंगजेब का राज है. उन्होंने कहा कि इस मामले को हम संयुक्त राष्ट्र तक ले जाएंगे. एमएस सिरसा ने यह बातें नई दिल्ली स्थित पाकिस्तान दूतावास पर प्रदर्शन के दौरान कही.
पाकिस्तान में अल्पसंख्यक लड़कियों के अपहरण के बाद जबरन धर्मांतरण के बाद शादी के मामले लगातार सामने आ रहे हैं. मिली जानकारी के मुताबिक पाकिस्तान में शुक्रवार को एक और सिख लड़की अगवा कर ली गई है. इस लड़की का जबरन धर्मांतरण पराया गया और एक मुस्लिम युवक से इसका निकाह करा दिया गया है. ये घटना हासन अब्दाल क्षेत्र की बताई जा रही है जो कि राजधानी इस्लामाबाद से सिर्फ 40 किलोमीटर दूर है. बीते ९ महीनों में ये इसे तरह का 55वां मामला बताया जा रहा है.
डॉन के मुताबिक लड़की की उम्र 22 साल बताई जा रही है लेकिन इससे जुड़ी और कोई भी जानकारी पुलिस ने देने से इनकार कर दिया है. बीते साल भी ननकाना में गुरुद्वारा पंजा साहिब के मुख्य ग्रंथी की बेटी को भी अगवा कर लिया गया था. इसके बाद उसका भी जबरन धर्मांतरण कर एक मुस्लिम लड़के से उनकी शादी करा दी गयी थी. रिपोर्ट के मुताबिक ये सिख लड़की शुक्रवार को घर से किसी काम के लिए निकली थी और फिर लापता हो गई. डीएसपी राजा फैयाज उल हसन ने बताया- हासन अब्दाल पुलिस स्टेशन में अज्ञात लोगों के खिलाफ अपहरण का केस दर्ज किया गया है. लड़की के पिता ने इस बारे में लिखित शिकायत दी थी. हम लड़की की तलाश कर रहे हैं.
रिपोर्ट के मुताबिक लड़की के मोबाइल फोन से एक मैसेज किया गया है जिसमें कहा गया है कि वो अपनी मर्जी से इस्लाम कबूल कर चुकी है. इसके अलावा किसी पसंद के लड़के से निकाह भी कर चुकी है. हालांकि पुलिस लड़की की तलाश कर रही है जिससे उसका बयान दर्ज किया जा सके. सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के अमीर सिंह ने घटना की पुष्टि की और बताया- पीड़ित परिवार गुरुद्वारा पुंजा साहिब के करीब रहता था. लड़की के पिता और चाचा ने पंजाब प्रांत के एक मंत्री से मुलाकात कर उनसे मदद मांगी है.
बता दें कि पाकिस्तान में गैर-मुस्लिम लड़कियों का जबरन अपहरण के सैंकड़ों मामले सामने आ चुके हैं. यूनाइटेड स्टेट्स कमिशन ऑन इंटरनेशनल रिलिजियस फ्रीडम के डेटा की मानें तो पाकिस्तान में हर साल 1 हजार से ज्यादा (12 से 28 साल के बीच) लड़कियों का धर्म परिवर्तन कराया जाता है. उनसे इस्लाम कबूलवाया जाता है. उन्हें अगवा किया जाता है, बलात्कार किया जाता है और फिर जबरन उनकी शादी की जाती है. इनमें ज्यादातर हिंदू और ईसाई लड़कियां ही होती हैं.

इतालवी एयरलाइन : रोम से ‘कोविद-परीक्षणित’ उड़ानें शुरू

रेप की सज़ा का कानून बदलने जा रही है सरकार?